top of page
  • Writer's picturePrakhar Jain

नया संसद भवन देश का दर्पण होगा पर क्या इस दर्पण के लोकार्पण में कोई सस्ता राजनैतिक स्टन्ट था?

भारत देश को अपनी आजादी के 75 साल बाद नया, भव्य और स्वनिर्मित संसद भवन मिल गया है। भारतीय लोकतंत्र की सबसे भव्य और दिव्य पंचायत में उत्तर से दक्षिण और पूरब से लेकर पश्चिम तक की भारत की वृहद और विशाल सांस्कृतिक विरसात को प्रतिबिंबित किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ये एक बड़ा काम अपने हाथ में लिया था, जिसे बखूबी निभाया भी। आजादी के मृत काल के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने लाल किले की प्राचीर से कहा था की अब भारत का समय आ गया है, और इसी का प्रमाण इस नए संसद भवन से देने का प्रयास भी हुआ है।


प्रधानमंत्री की पवित्र सेंगोल से भारत में लोकतान्त्रिक मूल्यों को बल देने देने की बात दिल को छू गई, पर जब ददर्शक दीर्घा में नजर पढ़ी तो लोकतान्त्रिक मूल्यों के प्रति मन अंधकार के घोर कुएं में डूब गया। आखिर ये कैसा लोकतंत्र है जहां कोई विपक्ष ही दिखाई नहीं दे रहा। लोकतंत्र का सबसे बड़ा प्रतीक संसद भवन ही होता है और उसी संसद के उद्घाटन में विपक्ष नदारद है, ये बहुत ही गलत हुआ है। ये लोकतंत्र की मूल भवन के विपरीत और उस भवना और परिकल्पना पर तीखे प्रहार जैसा है। विपक्ष यदि किसी बात से नाराज था तो प्रधानमंत्री को डायलॉग से उस नाराजगी को दूर करना चाहिए था। आखिर ऐसे अवसार बार-बार नहीं आते हैं। लेकिन देश के मुखिया का इस पूरी घटना को नजरंदाज करना कहीं न कहीं इस बड़े दिन को केवल एक स्टन्ट बनाकर छोड़ देने के समान प्रतीत होता है।

6 views0 comments

Recent Posts

See All

भारत में साम्प्रदायिक हिंसा: चुनौतियाँ और समस्याएँ

भारत, अपनी विविधता और समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर के साथ, सामुदायिक सहमति और ब्रादरहुड की एक मिसाल होता है। हालांकि, कई बार इस विविधता की प्रतिष्ठा में किसी सामूहिक विवाद के कारण कमी आती है, जिसका परिणाम

एमपी में विधानसभा की राह नहीं आसान... टिकट बटवारा क्या बनेगा कांग्रेस की राह का रोड़ा?

2023 के चुनावी दंगल में हर एक सीट पर सिपाही मजबूत हो, इसके लिए बीजेपी और कांग्रेस की तैयारियां अपने चरमोत्कर्ष पर जा चुकी हैं। कांग्रेस में चुनावी समितियों की घोषणा के बाद ये साफ है कि चुनावी कमान पूर

Comments


bottom of page